This Site Content Administered by
भूकंप जानकारी
भूकंपीय वेधशाला नवीनतम भूकंप रिप

  भूकंपीय वेधशाला नवीनतम भूकंप रिपोर्ट

भूकंप और उसके होने के कारण

  • संचित उर्जा के बाहर निकलने के कारण पृथ्वी के अंदर अचानक तरंग उत्पन्न होते है जिसके कारण एक कंपनों की शृखला भूतल पर निर्माण होती हैं उसे भुकंप कहते हैं।

  • यह माना जा सकता है कि भूभ्रंश भूकंप का तुरंत कारण हैं, क्योकि यह है की प्लेटस् भूखंड लगातार गतिशील होती है जिसके कारण उनका आकार बदलता रहता हैं, फलस्परूप उनमें तमाम उत्पन्न हो जाता है।

  • भारतीय भूखंड के उत्तरीपूर्वतर दिशा में खिसक रहा हैं। और यह हिमालय में युरेशियन भूखंड के साथ टकरा रहा हैं।

 

परिभाषाएँ

  • भूकंप उत्केंद्रः- यह भूतल पर वो मुक्त बिंदू है जो हायपोंसेटर भूकंप का उगम से सीधी रेखा उर्ध्वदिशा में निकली जाती है और भूतलपर जाती है। यह बिन्दू भौगोलिक अक्षांश और रेखांश से दर्शाया

  • परिमाण :- यह एक परिमाण है जो की भूकंप के प्रकार को उनकी तीव्रता के आधार पर नापा जाता है। जो की उस स्थान के प्रेक्षण पर निर्भर नहीं करता।

  • रिक्श्टर स्केल :- एक मापन है जो  भूरसारीय गति के आधार पर उसका शुध्दीकरन करके उसका भूकंप की दूरी का सयावेश करके परिमाण मिश्चित किया जाता है और यह रिक्श्टर स्केल मापदंड में जताए गए भूकंप द्वारा छोडी गई उर्जा की लॉगर्थमीक फलन से संबधित होता है।

  • तीव्रता :- किसी विशेष स्थान पर हुए भूकंप के प्रभाव, विध्वंस की दर है, इसे मार्कली स्केल पर मापा जाता है।

     

भूकंप के प्रकार

  • हलका रिक्श्टर स्केल पर परिमाण मात्रा 4.9 तक होती है।

  • मध्यम-  परिमाण मात्रा 5.0 से 6.9 होती है।

  • विशाल - परिमाण मात्रा 7.0 से 7.9 तक होती है।

  • अतिविशाल -  परिमाण मात्रा 8.0 और अधिक है।



Site is designed and hosted by National Informatics Centre
Information is provided and updated by : Regional Meteorlogical Centre Mumbai
साईट - अदावेदार